हँगर निर्मिती उद्योग ( How to start HANGER business )

Rate this post

हैंगर के विविध प्रकार आज हमें स्टेशनरी दूकानें, मॉल्स इन स्थानों पर देखने को मिलते हैं। हाल ही में तो विविध मॉल्स में आकर्षक डिझाईन के, नमुने के फैन्सी हैंगर्स बिक्री को आये हुए दिखाई देते हैं। हर परिवार को लगनेवाली यह अत्यावश्यक चीज होने से हर घर में हमें हैंगर्स देखने को मिलते हैं।

घर के अलमारी में अथवा तिजोरी में नये अथवा इस्त्री के कपडे खराब न हो इसलिए वह कपडे लटकाने के लिए हैंगर्स का उपयोग करते हैं। आधुनिकीकरण के जमाने में ग्रामीण भाग के बेरोजगारों की रोजगार की खोज में शहर की ओर आने की और वहाँ ही स्थायिक होने की पसंदी दिखाई देती हैं।

अधुरो जगहों में, बडी-बडी इमारतें, अपार्टमेंटस में रहते वक्त देहाती भाग जैसी बडी जगह कपडे सुखाने के लिए उपलब्ध नहीं होती हैं। इसलिए फ्लॅट की गैलरी में हैंगर को चिमटे लगाकर कपडे सुखायें जाते हैं। हर बार कपडों को इस्त्री करना संभव नहीं होता इसलिए बहुतसी महिलाएँ कपडे धोने के बाद उनकी इस्त्री खराब न हो इसलिए भीगे कपडे वैसे ही हैंगर को लटकाकर न निचोडते हुए सुखाती है।

भीगे कपडे अव्यवस्थित नहीं होते और इस्त्री खराब नहीं होती। ऐसे कपडे इस्त्री न करते हुए भी फिर से उपयोग में लाए जाते हैं। हररोज कपड़ों को इस्त्री करना जैसे सबको ही संभव नहीं होता, वैसे वह आर्थिक दृष्टि से भी योग्य नहीं लगता। बाहरसे इस्त्री करके लाना महँगा होता हैं तो घरमें इस्त्री करने के लिए बिजली की जरूरत लगती हैं। कपडे धोने के बाद हैंगर को लटकाकर रखने के कारण इस्त्री खराब नहीं होती। इसी कारण इस्त्री करने के पैसों की बचत होती हैं।

हँगर निर्मिती उद्योग पारंपरिक पद्धति से आज भी लकड़ी के हैंगर तैयार किए जाते ही हैं परंतु लकडी के हैंगरों की अपेक्षा प्लास्टिक के हैंगर, स्टील के हैंगर, अॅल्युमिनियम हैंगर, फायबर के फैन्सी हैंगर्स इन्हें अच्छी माँग हैं। घर में कपड़ों की अलमारी में, तिजोरी में हैंगर को कपडे लटकाकर रखे जाते हैं।

कपडे लटकाने के लिए हैंगर्स का उपयोग करने से कम जगह में अधिक कपडे रख सकते हैं। बाजार में हैंगर्स की विविध मॉडेल्स हैं। एक ही हैंगर को शर्ट, पैंट, साडी ऐसे अधिक कपडे लटकाने के लिए हैंगर्स को अधिक माँग होने से आप भी ऐसे ही मॉडेल्स बनवाने का प्रयत्न करो।

हैंगर की निर्मिती करने के लिए संभवत: मशिनरी की जरूरत नहीं लगती। अॅल्युमिनियम के अथवा स्टील के हैंगर्स बनाने के लिए वे संभवत: हाथ से तार को झुकाकर अथवा हँडमोल्डेड औजारों द्वारा बनाए जाते हैं। परंतु प्लास्टिक अथवा फायबर हैंगर्स बनवाने के लिए प्लास्टिक मोल्डींग मशिन की आवश्यकता हैं।

स्टील का, अॅल्युमिनियम का हैंगर तैयार करने के लिए थोडा-सा प्रशिक्षण लेना पड़ता हैं। हाथ से तार झुकाकर उसे जो चाहिए उस डिझाईन का आकार देकर ऐसे हैंगर्स तैयार कर सकते हैं। बाजार में छोटी क्लीप्स मिलती हैं । उसे हैंगर के दोनो बाजू को क्लीप्स लगाकर हैंगर (क्लीप्स हैंगर्स) तैयार कर सकते हैं। कम भांडवल में (रुपयों में) उद्योग शुरू करनेवालों को हैंगर निर्मिती उद्योग एक अच्छा पर्याय हैं।

मार्केट :

बिना मशिनरी के हैंगर उद्योग शुरू किया तो स्टील तार और मामूली साधनों द्वारा तैयार किए हुए हैंगर्स एखादं छोटा-सा दुकान शुरू करके बेच सकते हैं। हैंगर बिक्री के लिए डोअर मार्केटिंग यह सर्वोत्तम विकल्प हैं। डोअर टू डोअर मार्केटिंग किया तो हैंगर्स की बिक्री अधिक होती हैं। कारण हैंगर की स्पेशली खरीद करने के लिए कोई नहीं जाता।

इसी कारण दरवाजें पर हैंगर की बिक्री करने के लिए जब बिक्रेतें आते हैं; तब हमारे पास हैंगर नहीं हैं अथवा हमें जरूरत हैं यह जब ध्यान में आता हैं तब ग्राहक उसे खरीद लेता हैं। हर घर में आधा डझन, एक डझन (दर्जन) हैंगर्स होते ही हैं अथवा आवश्यकता होती हैं। हैंगर्स बिक्री के लिए स्थानिक की ही बाजार मिलेगी।

गारमेंट दूकानें, कपड़ों की दूकानें, दर्जी की दूकानें, स्टेशनरी की दूकानें, मॉल्स, साडी की दूकानें यहाँ भी हैंगर्स की बिक्री कर सकते हैं।

रॉ मटेरियल:

स्टील तार, ॲल्युमिनियम का तार, प्लास्टिक के हैंगर के लिए कच्चे प्लास्टिक, डाय, साँचें, लकडी की पट्टीयाँ, प्लास्टिक की कोटींग पावडर, तार झुकाने की साहित्य-सामग्री, प्लास्टिक की वायर, क्लिप्स ऐसा जरूरत के कच्चा माल लगेगा।

मशिनरी :

प्लास्टिकं मोल्डिंग मशिन, हँडमोल्डिंग मशिन, डाय, साँचें, लकडी की पट्टियाँ, प्लास्टिक कोटींग पावडर, तार झुकाने की सामग्री, प्लास्टिक की वायर, क्लीप्स, तार झुकाने के लिए बढई के काम के अथवा लुहार काम का साहित्य, पक्कड, कटर आदि मशिनरी लगेगी।

Leave a Comment